GOLU KI CHAI

आइये सुबह की एक बेहतरीन शुरुआत के लिए हम आपको एक उम्दा और बेहतरीन शख्सियत से मिलवाते हैं। ये हैं रामआसरे जी उर्फ गोलू के दद्दू । बात उस दिन की है जब मैं कानपुर कुछ दिनों के लिए रुका हुआ था और सुबह सुबह चाय की तलाश में इधर उधर घूम रहा था सुबह के 10:00 बज रहे थे लेकिन मेरे आस-पास चाय की दुकान का कोई नामोनिशान नहीं था और इसी तरह चलते फिरते मैं अपने रुम से साईं मंदिर काकादेव तक पहुंच गया और वहां एक चाय का स्टाल देखा जिस पर लिखा हुआ था “गोलू टी स्टाल”। दुकान को देख कर मेरी आंखें चमक उठी गोलू की छोटी सी दुकान से चाय की खूशबू मुझे स्टॉल तक खींच लाई , वहां पहुंचा तो देखा दद्दू चाय के लिए अदरक कूट रहे हैं और उनका छोटा लड़का गोलू आलू के परांठे बना रहा है पराठों और धनिया टमाटर की चटनी की खुशबू अलग बुला रही थी आलू के परांठे के साथ अदरक वाली चाय अहा।। चाय की तलाश में घूमते घूमते भूख भी लग आई थी तो सोचा क्यों न नाश्ता भी परांठे खाकर कर लिया जाए। फिर क्या एक के बाद एक करके चाय के साथ 4 पराठे कब अंदर हुए पता ही नहीं चला वो पराठे आलू के पराठे ही नहीं बल्कि प्रेम और स्नेह से भरपूर पराठे थे उनमें दुकान का नहीं घर के खाने जैसा स्वाद था और खाने के साथ साथ उन पिता-पुत्र की हंसी ठिठोली अलग ही मनोरंजन करवा रही थी, ऐसी गरीबी में भी उनका हंसमुख स्वभाव और एक खुशहाल जीवन कुछ अलग ही दास्तां बयां कर रही थी इन परिस्थितियों में भी कड़ी मेहनत कर खुशी खुशी अपने परिवार को पालना एक असली भारतीय की पहचान को गौरवान्वित कर रही थी। तो साहब जब भी कानपुर आइये “गोलू के पराठों का स्वाद और दद्दू की चाय की चुस्कियों का आनंद जरुर लीजिए” . Location :- Sai Mandir Kakadeo, Kanpur!IMG_20180630_154131_324-2

Myself Divyanshu Mishra From Kanpur. I'm a Fashion & Portrait Photographer & also an Engineer from NIT ALLAHABAD!

Submit a comment